Priyanka Pandit & Ritesh Pandey Film Karm Yug Being Appreciated by Audience

Priyanka Pandit & Ritesh Pandey Film Karm Yug Being Appreciated by Audience

प्रियंका पंडित और रितेश पांडेय की फिल्म  ‘कर्म युग’ दर्शकों को पसंद आ रही है मल्‍टीप्‍लेक्‍स में भी दिखा जलवा

रतन राहा की फिल्‍म ‘कर्म युग’ आज मुंबई  के बॉक्‍स ऑफिस पर रिलीज हो चुकी है। यह फिल्‍म मुंबई में सिंगल थियेटर के अलावा मल्‍टीप्‍लेक्‍स में भी लगी है, जहां फिल्‍म को शानदार ओनपिंग मिलने की खबर है। ट्रेड पंडित बताते हैं कि रतन राहा ने एक बार फिर बेहतरीन फिल्‍म बनाई है और रिलीज की टाइमिंग भी शानदार है। क्‍योंकि साल 2019 में रिलीज होने वाली ”कर्म युग” पहली भोजपुरी फिल्‍म है। अमृत फिल्‍म प्रोडक्‍शन के बैनर तले बनी भोजपुरी फिल्‍म ‘कर्म युग’ के लिए खास बात ये भी है कि इसका जलवा मल्‍टीप्‍लेक्‍स में भी देखने को मिल रहा है।

फिल्‍म में सुपर स्‍टार रितेश पांडेय, लक्ष्‍य (नवोदित) ,गार्गी पंडित, निशा दुबे, संजय पांडेय, गिरिश शर्मा, अयाज खान, सोनी पटेल,सोनी दुबे,संजय वर्मा व बाल कलाकार ईशिता पाल भी मुख्‍य भूमिका में हैं। फिल्‍म का निर्माण अमृत एल गांधी ने किया है, जबकी रतन राहा ने फिल्‍म को निर्देशित किया है। फिल्‍म को मिली ओपनिंग से संतुष्‍ट नजर आये रतन राहा ने कहा कि उम्‍मीद के अनुरूप ही पहले दिन दर्शकों का प्‍यार मिला है। आगे भी फिल्‍म के सारे शो हिट जायेंगे, क्‍योंकि दर्शकों को यह फिल्‍म पसंद आ रही है।

  

उन्‍होंने कहा कि हमें मिल रही रिपोर्ट के अनुसार, दर्शकों को संगीतकार दामोदर राव के संगीत में सजी  फिल्‍म के हर गाने, कहानी और संवाद बेहद भा रहे हैं। साथ ही रितेश, गार्गी, निशा आदि कलाकारों के अभिनय को भी खूब सराहा जा रहा है। इसके अलावा संजय पांडेय और अयाज खान हर बार की तरह लोगों को पसंद आये हैं। इसलिए हम आशा करते हैं कि जिस तरह फिल्‍म को आज ओ‍पनिंग मिली, उसी तरह आने वाले दिनों में दर्शकों का प्‍यार हमारी फिल्‍म कर्म युग को भरपूर मिलेगा।

बता दें कि फिल्‍म के सह निर्माता नरेंद्र डोगरा, लेखक अनिल विश्‍वकर्मा और प्रचारक संजय भूषण पटियाला हैं। कर्म युग के खूबसूरत गाने को संतोष दुबे, राजेश मिश्रा, मुन्‍ना दुबे, आर. आर पंकज और फणींद्र राव ने लिखा है, जबकि इसमें संगीत दामोदर राव ने दिया है। डीओपी नंदलाल चौधरी, एक्‍शन नाबा स्‍टंटस, संकलन कोमल वर्मा और कोरियोग्राफ कानु मुखर्जी ने किया है।

——–Sanjay Bhushan Patiyala

Print Friendly, PDF & Email

Comments are closed.